मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
थियेटरों में बालीवुड फिल्मों की वापसी से मिस्रवासी खुश PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Thursday, 03 October 2013 15:50

काहिरा। मिस्र में पिछले 25 सालों से बाक्स आफिस पर पड़े बालीवुड फिल्मों के अकाल को ‘‘चेन्नई एक्सप्रेस’’ ने समाप्त कर दिया है और यहां हिंदी फिल्मों का प्रदर्शन फिर से शुरू हो गया है।
यहां फिल्म वितरकों में भी फिर से विश्वास जगा है कि बालीवुड उनके राजनीतिक संकट से प्रभावित फिल्म बाजार में नयी जान डालने में मददगार होगा।
भारत में सर्वाधिक कमाई करने वाली ‘‘चेन्नई एक्सप्रेस’’ बीती शाम काहिरा और एलेक्जांद्रिया में मिस्र के थियेटरों पर अरबी उप शीर्षकों के साथ रिलीज हुई। यूनाइटेड मोशन पिक्चर्स , गौरांग फिल्म्स और काहिरा में भारतीय दूतावास के सहयोग से यह फिल्म रिलीज हुई।
शुरूआत में काहिरा में आठ और एलेक्जांद्रिया में दो सिनेमाघरों में यह फिल्म दिखाई जा रही है। इसके बाद यहां रितिक रोशन की ‘कृश 3’ और आमिर खान की ‘धूम 3’ को


भी दिखाया जाएगा।
पिछले 25 सालों में मिस्र में 2009 में शाहरूख खान की ‘ माई नेम इज खान’ को छोड़कर कोई फिल्म नहीं दिखायी गई जिसे वितरक एंतोनी जैंद लेकर आए थे।
जैंद का मानना है कि इस प्रकार की फिल्मों से न केवल एक अरसे बाद मिस्र को बालीवुड से जोड़ने में मदद मिलेगी बल्कि इससे बाजार में भी नई जान आएगी जो देश में राजनीतिक बदलाव के कारण मंदी का शिकार था।
जैंद भारतीय फिल्मों में अपने निवेश को लेकर चिंतित नहीं हैं।
उन्होंने कहा, ‘‘लोग अमेरिकी फिल्मों के आदी नहीं हैं। वे तुर्की धारावाहिकों की तरह भारतीय फिल्मों को भी हाथोंहाथ लेंगे।’’
(भाषा)

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?