मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
मादक पदार्थ रैकेट मामले में नेताओं के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई: पूर्व डीजीपी PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Wednesday, 18 September 2013 15:12

चंडीगढ़। पंजाब पुलिस के पूर्व शीर्ष पुलिस अधिकारी ने राज्य सरकार पर सत्ताधारी अकाली दल और विपक्षी कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं पर राज्य में मादक पदार्थ माफिया के साथ कथित मिलीभगत के लिए कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाया है।
पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय को लिखे एक पत्र में पूर्व पुलिस महानिदेशक (कारागार) शशिकांत ने आरोप लगाया है कि राज्य सरकार ने शिरोमणि अकाली दल, भाजपा और कांग्रेस के 10 नेताओं के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जबकि उन्होंने उन राजनेताओं की सूची दी है जिनके मादक पदार्थ माफिया के साथ घनिष्ठ संबंध हैं।
पंजाब सरकार ने यद्यपि उनके दावों को यह कहते हुए खारिज कर दिया कि पूर्व डीजीपी को तब कार्रवाई करनी चाहिए थी जब वह पद पर थे और अब आरोप लगाने का कोई मतलब नहीं है।
मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने फिरोजपुर में कहा, ‘‘शशिकांत ने तब कार्रवाई क्यों नहीं की जब वह पंजाब के जेल डीजीपी थे।’’
शशिकांत ने राज्य में मादक पदार्थ की बुराई के बारे में अदालत को लिखा था। उनके पत्र को एक जनहित याचिका माना गया था और उन्हें 13 अगस्त को अदालत में पेश होने के लिए कहा गया। उन्होंने सोमवार को इस बुराई पर एक विस्तृत रिपोर्ट पेश की।   मुख्य न्यायाधीश संजय किशन कौल के नेतृत्व वाली एक खंडपीठ ने उनके द्वारा कही गई बातों पर संज्ञान लेते हुए कल कहा कि अदालत याचिका पर गौर करके एक निर्णय करेगी।
शशिकांत ने पत्र में कहा है कि उन्होंने करीब छह वर्ष पहले तत्कालीन राज्य सरकार को उन राजनेताओं


की एक सूची दी थी जो मादक पदार्थ की तस्करी में शामिल हैं।
उन्होंने कहा, ‘‘उस समय करीब 10 से अधिक राजनीतिज्ञ प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से मादक पदार्थ की तस्करी में लिप्त थे। मैंने तत्कालीन मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल से भी मुलाकात की और मुद्दे पर चर्चा की। उन्होंने मुझसे वादा किया था कि वह इन राजनेताओं में से कुछ से बात करेंगे लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है।’
उन्होंने यह कहते हुए नामों का खुलासा करने से इनकार कर दिया कि वह जरच्च्रत पड़ने पर उनके नाम अदालत को देंगे।
उन्होंने कहा, ‘‘इस सूची में शिरोमणि अकाली दल, भाजपा और कांग्रेसी नेताओं के नाम हैं। जांच के रिकार्ड पुलिस विभाग के पास हैं।’’
शशिकांत के बयान पर पंजाब के उप मुख्यमंत्री एवं राज्य के गृह मंत्रालय का प्रभार संभालने वाले सुखबीर सिंह बादल ने खदूर साहिब में कहा, ‘‘ऐसा लगता है कि शशिकांत चुनाव लड़ने दिशा में बढ़ रहे हैं।’’
बादल ने कहा कि जब शशिकांत डीजीपी कारागार थे उन्होंने कभी भी राज्य में ऐसे माफिया के बारे में सूचना नहीं दीं।
उन्होंने कहा, ‘‘अभी तक किसी भी राजनेता का नाम सामने नहीं आया है। उन्होंने कहा, ‘‘हमने दो या तीन दिन पहले तीन एएसआई को बर्खास्त किया क्योंकि यह बात सामने आयी कि वे मादक पदार्थ तस्करों की मदद कर रहे थे।’’
(भाषा)

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?