मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
जीजेएम, बंगाल सरकार, केन्द्र बातचीत कर पर्वतीय क्षेत्र की समस्या सुलझायें :बोस PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Tuesday, 27 August 2013 16:24

कोलकाता। वाममोर्चा ने आज पश्चिम बंगाल सरकार, गोरखा जनमुक्ति मोर्चा और केन्द्र से आग्रह किया कि वे दार्जिलिंग पर्वतीय क्षेत्र में गतिरोध खत्म करने और समस्या का व्यावहारिक हल निकालने के लिये बातचीत करें।
वाममोर्चा के अध्यक्ष विमान बोस ने कहा कि पर्वतीय क्षेत्र में गतिरोध बना हुआ है क्योंकि गोरखा जनमुक्ति मोर्चा और राज्य सरकार ने बिल्कुल एक दूसरे के विपरीत रूख अपना रखा है। गतिरोध समाप्त करने और समस्या का व्यावहारिक हल निकालने के लिये तीनों पक्षों को तुरंत वार्ता करनी चाहिये।    
उन्होंने कहा कि तीनों पक्षों को कठोर रूख नहीं अपनाना चाहिये और तुरंत वार्ता करनी चाहिये।
इस बीच जीजेएम अध्यक्ष बिमल गुरूंग के आज से पांच दिन तक छात्र रैली के आह्वान पर दार्जिलिंग के चौक बाजार पर बडी संख्या में स्कूली छात्र एकत्र हुए। लगभग 5000 छात्रों ने चौक बाजार पर प्रदर्शन किया और पृथक राज्य की


मांग को लेकर नारे लगाये।
आठ राजनीतिक दलों के महासंगठन गोरखा संयुक्त कार्रवाई समिति के अन्य घटक दलों ने हालांकि स्कूल और कालेजों को आंदोलन के दायरे से बाहर रखने का फैसला किया है।     
जीजेएम महासचिव रोशन गिरि ने कल कहा था कि उनकी पार्टी आगामी चार सितम्बर को होने वाली गोरखालैंड क्षेत्रीय प्रशासन की बैठक में तब तक भाग नहीं लेगी जब तक उनकी पार्टी के सभी 800 सदस्यों को रिहा नहीं किया जाता।
यह बैठक गुरूंग का उत्तराधिकारी चुनने के लिये बुलाई गयी है। गुरूंग ने संप्रग सरकार द्वारा तेलंगाना के गठन की घोषणा करने के बाद गत 31 जुलाई को प्रशासन के सीईओ के पद से इस्तीफा दे दिया है।
भाषा

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?