मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
इलाहाबाद उच्च न्यायालय के वकीलों ने अलग खंडपीठ के मुद्दे पर काम का बहिष्कार किया PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Wednesday, 14 August 2013 10:53

इलाहाबाद। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में इलाहाबाद उच्च न्यायालय की एक नयी पीठ के गठन की मांग के विरोध में यहां के वकीलों ने आज अपने काम का बहिष्कार किया।
उच्च न्यायालय बार एसोशिएशन :एचसीबीए: की आम सभा की कल हुई एक बैठक में पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लिए इलाहाबाद उच्च न्यायालय का अलग खंडपीठ बनाने के जिला बार एसोशिएशन के ‘अवैध प्रयास’ के विरोध में कार्य बहिष्कार का यह निर्णय लिया गया था।
उच्च न्यायालय के वकील आज अदालत के मुख्य द्वार के सामने इकट्ठा हुए और परिसर के प्रवेश द्वार को पूरी तरह से घेर लिया। उन्होंने ‘माननीय न्यायालय को बांटने की इस कुटिल प्रयास’ के विरोध में नारे भी लगाए। हालांकि इस दौरान किसी प्रकार की हिंसा नहीं हुई।
उच्च न्यायालय बार एसोसिएशन के अध्यक्ष कंदर्प नारायण मिश्र ने बाद में


घोषणा की कि यह बहिष्कार कल :बुधवार: भी जारी रखने का सर्वसम्मति से फैसला लिया गया है।
मिश्र ने पीटीआई से कहा, ‘‘आगे की कार्रवाई के बारे में फैसला के लिए हमने कल भी आम सभा की एक बैठक बुलाई है।’’
गौरतलब है कि राज्य के सुदूर क्षेत्रों के लोगों की असुविधाओं को देखते हुए मेरठ या पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसी हिस्से में उच्च न्यायालय की अलग खंडपीठ गठित करने की लंबे समय से मांग की जाती रही है।
हालांकि वकील इस कदम का जारेदार विरोध करते रहे हैं, क्योंकि इससे उनके मुवक्किलों की संख्या में काफी कमी आने की आशंका है।
भाषा

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?