मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
बाढ़ पीड़ितों ने अफसरों पर किया पथराव PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Friday, 02 August 2013 10:09

विवेक श्रीवास्तव, संत कबीर नगर। जनपद के धनघटा तहसील में घाघरा नदी पर बने मदरहा-बहराडाड़ी  तटबंध पर भिखारीपुर और तुर्कवलिया के बाढ़ पीड़ितों के सब्र का बांध गुरुवार सुबह उस समय टूट पड़ा, जब जिलाधिकारी डा इंद्रवीर सिंह यादव व पुलिस अधीक्षक पीयूष श्रीवास्तव अपने पूरे अमले के साथ तटबंध का निरीक्षण करने पहुंचे। निरीक्षण के दौरान राहत व बचाव में लापरवाही बरतने की शिकायत पर प्रशासन से सही जवाब न मिलने के कारण बाढ़ पीड़ित उग्र हो गए और पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों पर पथराव करने लगे। उन्होंने सरकारी गाड़ियों को नुकसान पहुंचाया। जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने भी रबड़ की बुलेट का प्रयोग किया और जम कर लाठियां भांजी। जिससे दर्जनों बाढ़ पीड़ित बुरी तरीके से घायल हो गए।
इस घटना के बाद तनाव फैल गया। बड़ी संख्या में पुलिस व पीएससी तैनात की गई। तब जाकर मौके पर शांति कायम हुई। जिले के आला अधिकारी डेरा डाले हुए हैं। 
घाघरा नदी के किनारे धनघटा तहसील के विकास खंड हैंसर के दो गांवों भिखारीपुर और तुर्कवलिया का अस्तित्व भी खत्म हो चुका है। इन गांवों के ग्रामीण मदरहा, बहराडाड़ी बंध पर लगभग एक महीने से शरण लिए हुए हैं और खानाबदोश की जिंदगी बीता रहे हैं। प्रशासनिक सहायता के नाम पर कागजी खानापूरी की जा रही है।
पिछले दिनों घाघरा नदी के तेज कटान करने से इस बंधे के अस्तित्व पर भी खतरा मंडराने लगा और तुर्कवलिया गांव के पास बंधा कट गया


था। कही-कहीं रिसाव भी होने लगा। रिसाव और बंधे के कटने की जानकारी होने पर भी ड्रेनेज खंड व धनघटा तहसील के अधिकारी व कर्मचारी शाम को खिसक लिए। बंधे के कटने की सूचना पर गुरुवार सुबह जिलाधिकारी डा इंद्रवीर सिंह यादव, पुलिस अधीक्षक सहित पूरे दलबल के साथ जब बंधे पर बाढ़ पीड़ितों का हाल-चाल जानने व निरीक्षण करने पहुंचे तो लोग बाढ़ के नाम पर धांधली व सहायता न मिलने के कारण उग्र हो गए और कुछ लोग पथराव करने लगे।
पथराव से जिलाधिकारी, अपर जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक सहित अन्य अधिकारियों की गाड़ियां क्षतिग्रस्त हो गई। बाढ़ पीड़ितों के पथराव करने से कुछ अधिकारियों को चोटें भी आई हैं, लेकिन इसकी अधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है। जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने भी जमकर लाठियां भांजी और हवा में गोलियां चलाई। जिससे घटना स्थल पर भगदड़ मच गई। पुलिस लाठीचार्ज करने से दर्जनों बाढ़ पीड़ित बुरी तरह घायल हो गए।
घाघरा नदी में बाढ़ बरसात के शुरुआती दौर से ही जारी है। नदी के लगातार कटान करने से तमाम गांवों में पानी भर गया है। तुर्कवलिया और भिखारीपुर गांव के लोग मदरहा-बहराडाड़ी बंधे पर लगभग 15 दिनों से शरण लिए हुए हैं। प्रशासन बाढ़ के शुरुआती दौर से ही बजट की कमी बता कर अपना पल्ला छुड़ाता नजर आ रहा है।

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?