मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
मायावती ने फिर की उत्तर प्रदेश को चार हिस्सों में बांटने की मांग PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Wednesday, 31 July 2013 14:28

लखनऊ। पृथक तेलंगाना राज्य के गठन की तैयारियों के बीच बहुजन समाज पार्टी :बसपा: प्रमुख मायावती ने आज विदर्भ एवं गोरखालैण्ड के गठन के साथ-साथ उत्तर प्रदेश को भी चार हिस्सों में बांटने की मांग दोहरायी।
मायावती ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘हमारी पार्टी तेलंगाना राज्य स्थापित करने की मांग का शुरू से ही समर्थन करती आ रही है। अब तेलंगाना राज्य बनने जा रहा है। ऐसी स्थिति में बसपा की मांग है कि केन्द्र देश के अन्य बड़े राज्यों का पुनर्गठन करने के साथ-साथ विदर्भ और गोरखालैण्ड को भी गठित करे। साथ ही उत्तर प्रदेश को भी चार राज्यों में बांटने की प्रक्रिया जल्द से जल्द पूरी की जाए ताकि विकास और सामाजिक न्याय का मार्ग प्रशस्त हो सके।’’
उन्होंने कहा, ‘‘उत्तर प्रदेश के जो लोग केन्द्र में मंत्री हैं, उन्हें राज्य पुनर्गठन के मामले में हवाई बयानबाजी करने के बजाय इस पर केन््रद की मुहर लगवाने के लिये दबाव बनाना चाहिये।’’
मायावती ने कहा


कि बसपा डॉ. भीमराव अम्बेडकर की मानवतावादी सोच के मुताबिक देश में छोटे राज्यों और अन्य छोटी प्रशासनिक इकाइयों की प्रबल समर्थक रही है ताकि जनता को बेहतर और आसानी से सुविधा मिल सके।
उन्होंने कहा कि इसी अवधारणा को अमली जामा पहनाते हुए उनकी पिछली सरकारों ने न सिर्फ अनेक नयी तहसीलें, जिले, मण्डल और पुलिस रेंज बनाये, बल्कि उत्तराखण्ड बनने के बावजूद उत्तर प्रदेश को चार अलग-अलग भागों पूर्वांचल, बुंदेलखण्ड, पश्चिमी प्रदेश तथा अवध प्रदेश में बांटने का प्रस्ताव विधानसभा से पारित कराकर 23 नवम्बर 2011 को केन््रद को भेजा गया।
मायावती ने कहा, ‘‘लेकिन दुख की बात यह है कि अभी तक यह मामला केन््रद के समक्ष लम्बित है। हालांकि संविधान की धारा तीन के तहत नये राज्यों का प्रावधान संसद के द्वारा केन््रद में निहित है।’’
(भाषा)

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?