मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
आईएएस दुर्गाशक्ति के निलम्बन पर विवाद गहराया PDF Print E-mail
User Rating: / 1
PoorBest 
Monday, 29 July 2013 14:35

लखनऊ। दिल्ली से सटे नोएडा में खनन माफिया के खिलाफ अभियान चलाने के कारण चर्चा में आयीं उपजिलाधिकारी दुर्गाशक्ति नागपाल के निलम्बन पर विवाद बढ़ता जा रहा है। दुर्गाशक्ति के निलम्बन के मुद्दे को लेकर आज आईएएस एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने कार्यवाहक मुख्य सचिव आलोक रंजन से मुलाकात की। इस दौरान उनके साथ दुर्गाशक्ति भी मौजूद थीं।
एसोसिएशन के महासचिव पार्थसारथी सेन शर्मा ने बताया कि रंजन के साथ बैठक में नोएडा की उपजिलाधिकारी दुर्गाशक्ति नागपाल को बिना नोटिस दिये निलम्बित किये जाने पर असंतोष जाहिर करते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई को वापस लिये जाने की मांग की गयी।
शर्मा ने बताया कि रंजन ने मुलाकात के दौरान कहा कि वह मामले को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के सामने रखेंगे। अखिलेश इस वक्त कर्नाटक में हैं। गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश सरकार ने हाल के दिनों में खनन माफिया के विरूद्ध अभियान चलाने के लिये चर्चा में रहीं गौतम बुद्ध नगर की उपजिलाधिकारी दुर्गा शक्ति


नागपाल को परसों निलम्बित कर दिया था।
सरकार के एक प्रवक्ता ने कल देर रात बयान जारी कर बताया कि वर्ष 2009 बैच की आईएएस अधिकारी और गौतमबुद्ध नगर :सदर: तहसील की उपजिलाधिकारी दुर्गा शक्ति नागपाल को रबूपुरा थाना क्षेत्र के कादलपुर गांव में एक निर्माणाधीन धर्मस्थल को कानूनी प्रक्रिया का पालन किए बगैर हटवा देने के कारण 27 जुलाई की रात निलम्बित कर दिया गया ।
दुर्गाशक्ति ने हाल के दिनों में नोएडा में यमुना और हिन्डन नदी के तटवर्ती इलाकों में चल रहे अवैध खनन के विरच्च्द्ध अभियान चला रखा था और अवैध खनन के मामले में लगभग दो दर्जन प्राथमिकियां दर्ज कराई थीं।
विपक्षी दलों ने आरोप लगाया है कि युवा आईएएस अधिकारी नागपाल का निलम्बन सत्तारच्च्ढ़ दल से जुड़े अवैध खनन माफियाओं के दबाव में किया गया है।
(भाषा)

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?