मुखपृष्ठ अर्काइव
Bookmark and Share
अमेरिकी सरकार को नहीं दिये उपभोक्ताओं के आंकड़े : माइक्रोसॉफ्ट PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Wednesday, 17 July 2013 12:40

वाशिंगटन। अमेरिकी सरकार द्वारा उपभोक्ताओं के आंकड़े  हासिल करने की खबरों पर प्रतिक्रिया में दिग्गज सॉफ्टवेयर कंपनी माइक्रोसॉफ्ट ने कहा कि उसने निजी सूचनाओं तक सीधे पहुंचने की अनुमति किसी भी सरकार को नहीं दी।
माइक्रोसॉफ्ट के वकील ब्रैड स्मिथ ने अटॉर्नी जनरल एरिक होल्डर को लिखे पत्र में कहा कि ‘कंपनी ने किसी भी सरकार को कूटलेखन :एनक्रिप्शन: तोड़ने की क्षमता नहीं दी है। और न ही वह सरकार को कोई भी कूटलेखन कुंजी ही उपलब्ध कराती है।’
स्मिथ ने लिखा, ‘‘जब हम कानूनी तौर पर मांग मानने के लिए बाध्य होते हैं तो हम अपने सर्वरों से उस विशेष सामग्री को हटा लेते हैं, जो कि बिना कूटलेखन के  होती है। इसके बाद हम इसे सरकारी एजेंसी को दे देते हैं।’’
स्मिथ ने होल्डर को लिखे अपने पत्र में कहा, ‘‘संविधान खुद भी इस समस्या का सामना कर रहा है।’’ इसके साथ ही उन्होंने कहा, ‘‘आपको खुद या फिर राष्ट्रपति को चीजें ठीक करनी होंगी।’’
अमेरिकी तकनीकी दिग्गज ने इस बात पर जोर दिया कि उन्होंने किसी भी सरकार को ईमेल या त्वरित संदेशों तक सीधी पहुंच मुहैया नहीं कराई है।
स्मिथ ने कहा, ‘‘जब सरकार


माइक्रोसॉफ्ट के ग्राहकों से जुड़ी कोई जानकारी चाहती है तो हम अपने सिद्धांत पर पूरी तरह कायम रहते हैं। हम सीमित चीजें ही उजागर करते हैं और पारदर्शिता के लिए प्रतिबद्ध रहते हैं।’’
इसके बाद एक ब्लॉग में स्मिथ ने कहा, ‘‘अगर किसी सरकार को राष्ट्रीय सुरक्षा उद्देश्यों के लिए ग्राहकों का डाटा चाहिए तो उन्हें आवेदन की कानूनी प्रक्रिया का पालन करना होता है। मतलब उसे हमें सामग्री के लिए एक अदालती आदेश या किसी खाते की सूचना के लिए सम्मन भेजना होता है।’’
उन्होंने लिखा, ‘‘हम विशेष खातों या लोगों के लिए किए गए आवेदनों पर ही विचार करते हैं। माइक्रोसॉफ्ट ग्राहकों के डाटा को हासिल करने के लिए कोई भी निर्बाध पहुंच उपलब्ध नहीं है।’’
माइक्रोसॉफ्ट के अधिकारी ने बताया कि मीडिया में पिछले सप्ताह, लीक सरकारी दस्तावेजों की जिस तरह व्याख्या की गई उसमें विसंगतियां हैं।
उन्होंने कहा ‘हमने सरकार से इन दस्तावेजों द्वारा उठाए गए मुद्दों पर चर्चा के लिए अनुमति मांगी लेकिन सरकारी वकीलों ने इंकार कर दिया।’
(भाषा)

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?