मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
डोपिंग मामले के सकारात्मक पक्ष को देख रहे आईओसी, आईएएएफ PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Wednesday, 17 July 2013 11:38

लंदन। अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति : आईओसी : और अंतरराष्ट्रीय एथलेटिक्स संघों के महासंघ : आईएएएफ : ने ट्रैक एंड फील्ड को झकझोरने वाले ताजा डोपिंग प्रकरण निराशाजनक करार दिया लेकिन वे इसके सकारात्मक पक्ष को लेकर उत्साहित भी हैं।
आईओसी और आईएएएफ ने कहा कि टायसन गे, असाफा पावेल और शेरोन सिम्पसन जैसे चोटी के एथलीटों का पाजीटिव परीक्षण निराशाजनक है लेकिन इससे पता चलता है कि वैश्विक स्तर पर चलाये जा रहे ड्रग परीक्षण के प्रयास काम कर रहे हैं।
इन मामलों का रविवार को खुलासा हुआ जबकि मास्को में होने वाली विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में एक महीने से भी कम समय बचा है।
आईओसी अध्यक्ष जाक रोगे ने एसोसिएट प्रेस को दिये गये बयान में कहा, ‘‘मैं निश्चित तौर पर निराश हूं और मैं डोपिंग के खिलाफ अपनी शून्य सहिष्णुता की नीति को दोहराता हूं। ’’
उन्होंने कहा, ‘‘डोपिंग के खिलाफ जंग पूरी तरह से कभी नहीं जीती जा सकती है लेकिन इन मामलों से फिर पता चलता है कि खेलों में डोपिंग के खिलाफ मजबूत, परिष्कृत और लगातार विकसित जंग काफी प्रभावी है। ’’
इस साल 100 मीटर में सबसे तेज समय निकालने वाले और अमेरिकी रिकार्डधारक गे ने बताया कि उन्हें 16 मई को प्रतियोगिता से इतर डोप परीक्षण में प्रतिबंधित दवा के सेवन का दोषी पाया गया है। उन्होंने दवा का नाम नहीं बताया और वह अपने ‘बी’ नमूने की जांच का इंतजार कर


रहे हैं।
जमैका के फर्राटा धावक और 100 मीटर के पूर्व विश्व रिकार्डधारी पावेल को पिछले महीने जमैका की राष्ट्रीय चैंपियनशिप में शक्तिवर्धक ओक्सिलोफ्रीन के सेवन का दोषी पाया गया। जमैका के उनके साथी और तीन बार के ओलंपिक पदक विजेता सिम्पसन को भी इसी पदार्थ के सेवन का दोषी पाया गया है। राष्ट्रीय चैंपियनशिप के दौरान कुल पांच जमैकाई एथलीटों का परीक्षण पाजीटिव रहा था।
एडिडास ने कल गे का प्रायोजन रद्द कर दिया था। वह 2005 से जर्मनी की जूता और खेल के सामान बनाने वाली इस कंपनी से जुड़े हुए थे।
इस बीच आईएएएफ ने कहा कि ड्रग अपराधों को जड़ से खत्म करने के लिये वे पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं। आईएएएफ के प्रवक्ता निक डेविस ने कहा, ‘‘हमने एथलीटों के लिये एक कार्यक्रम बनाया है जो दूरगामी और जटिल है। ’’
उन्होंने कहा, ‘‘इसकी वजह से ही हम खेल से उन एथलीटों को पकड़ने और बाहर करने में सफल रहे हैं जिन्होंने डोपिंग रोधी नियमों का उल्लघंन किया है। डोपिंग रोधी कार्यक्रम की विश्वसनीयता कम नहीं हुई बल्कि बढ़ी है। हर बार हम एक नया मामला लाने में सफल रहे हैं और हमें प्रत्येक एथलीट, कोच और अधिकारी का समर्थन प्राप्त है जो खेल को साफ रखने में विश्वास करता है। ’’
(एपी)

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?