मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
'मोदी की बढ़ती शोहरत को पचा नहीं पा रही कांग्रेस' PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Wednesday, 17 July 2013 11:04

हैदराबाद। आंध्र प्रदेश की राजधानी हैदराबाद में नरेन्द्र मोदी की जनसभा में शामिल होने वाले लोगों से पांच रूपए लेने के मुद्दे पर कांग्रेस के हमले को खारिज करते हु

ए भाजपा ने आज कहा कि सत्ताधारी पार्टी इस वजह से आरोप लगा रही है क्योंकि वह गुजरात के मुख्यमंत्री की बढ़ती शोहरत को पचा नहीं पा रही ।
भाजपा के वरिष्ठ नेता एम वेंंकैया नायडू ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘कांग्रेस नरेंन्द्र मोदी से घबरायी हुई है । वे नरेंन्द्र मोदी की बढ़ती शोहरत को पचा नहीं पा रही है । इसलिए वे ऐसे आरोप लगा रहे हैं । वे अनुचित तरीके से हमला करने की कोशिश कर रहे हैं ।’’
नायडू ने कहा, ‘‘हमें समझ नहीं आता कि कांग्रेस को इस पर ऐतराज क्यों है । भागीदारी की भावना जगाने के लिए पार्टी ने यह फैसला किया है । नाम मात्र की राशि जो ली जाएगी वह उत्तराखंड के राहत कायो’ में खर्च होगी । यदि वह :केंन्द्रीय मंत्री मनीष तिवारी: कहते हैं कि यह एक ‘फ्लॉप शो’ है तो वह भी ‘फ्लॉप शो’ कर सकते हैं । कांग्रेस का शो तो खुद ही ‘फ्लॉप शो’ है । कांग्रेस इस देश में पिछले 50 साल से ‘फ्लॉप शो’ चला रही है ।’’


भाजपा नेता नायडू कें्रदीय मंत्री मनीष तिवारी की टिप्पणियों के बाबत किए गए सवाल का जवाब दे रहे थे । तिवारी ने 11 अगस्त को यहां होने वाली नरें्रद मोदी की जनसभा में शामिल होने के इच्छुक लोगों से पांच रूपए प्रति व्यक्ति लेने के प्रदेश भाजपा के फैसले पर टिप्पणी की थी ।
जनसभा के बारे में आज सार्वजनिक तौर पर जानकारी देते हुए प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष जी कृष्ण रेड्डी ने कहा कि पांच रूपए का योगदान स्वैच्छिक है और कोई टिकट नहीं छपवाया गया है । 
रेड्डी ने कहा, ‘‘जनसभा के लिए प्रदेश भाजपा ने पंजीकरण के लिए उन लोगों से पांच रूपए लेने का फैसला किया जो यह दे सकते हैं । इस धन का इस्तेमाल उत्तराखंड में राहत कायो’ के लिए किया जाएगा । इसके लिए किसी तरह के टिकट नहीं छपवाए गए हैं । टिकटों की किसी तरह की बिक्री नहीं होगी ।’’
प्रदेश अध्यक्ष ने स्पष्ट किया कि जो पांच रूपए देने की स्थिति में हैं वे दे सकते हैं और जो नहीं दे सकते, जनसभा में उनका भी स्वागत है ।
(भाषा)

 

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?