मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
आईपीएल शैली के टूर्नामेंट पर एआईएफएफ-आईएमजी की बैठक स्थगित PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Tuesday, 16 July 2013 10:48

नयी दिल्ली। आईपीएल शैली की प्रस्तावित फुटबाल लीग को लेकर अखिल भारतीय फुटबाल महासंघ :एआईएफएफ: और उसके व्यावसायिक भागीदार आईएमजी रिलायंस के बीच कल होने वाली महत्वपूर्ण बैठक इस हफ्ते के अंत तक स्थगित हो गयी है।
आईएमजी रिलायंस ने इस टूर्नामेंट के बारे में अपनी योजना का खुलासा नहीं किया है। एआईएफएफ और आईएमजी रिलायंस अगले साल जनवरी से मार्च तक संयुक्त रूप से इस टूर्नामेंट का आयोजन करना चाहते हैं लेकिन आई लीग के अधिकतर क्लब इसका विरोध कर रहे है। क्लबों ने अपना रवैया कड़ा करते हुए खिलाड़ियों को छोड़ने से इनकार दिया है।
आई लीग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुनंदो धर ने प्रेट्र से कहा, ‘‘बैठक इस हफ्ते के अंत में होगी, हालांकि तारीख और समय पर फैसला होना बाकी है। ’’
आई लीग पेशेवर क्लब संघ के अध्यक्ष राज गोम्स ने कहा कि वे टूर्नामेंट के लिये खिलाड़ियों को नहीं छोड़ेंगे। उन्होंने हैरानी जतायी कि कल होने वाली बैठक का क्या नतीजा निकलेगा।
गोम्स ने पीटीआई से कहा, ‘‘वे : एआईएफएफ और आईएमजी रिलायंस : की कल बैठक है और हम नहीं जानते कि उसका क्या नतीजा निकलेगा क्योंकि हम टूर्नामेंट के लिये अपने खिलाड़ी नहीं छोड़ेंगे। यह शत प्रतिशत पक्का है। ’’
कुछ खिलाड़ी मोटी धनराशि वाले इस टूर्नामेंट से जुड़ना चाहते हैं लेकिन अब वे असमंजस की स्थिति में हैं। उन्हें डर है कि यदि वे टूर्नामेंट से जुड़ते हैं तो फिर वे आई लीग में नहीं खेल पाएंगे।
राष्ट्रीय कोच विम कोवरमैन्स ने रिपोर्टों के अनुसार प्रस्तावित टूर्नामेंट को भारतीय फुटबाल के लिये ‘बड़ा खतरा’ करार दिया था जिसके बाद स्थिति और खराब हो गयी। एआईएफएफ ने हालांकि तुरंत ही खंडन किया। इसमें कोवरमैन्स का बयान नहीं है और ना ही महासंघ के किसी अधिकारी ने उनकी तरफ से कुछ कहा है। उसने केवल बयान जारी करके कहा कि कोच ने प्रस्तावित टूर्नामेंट पर कोई टिप्पणी नहीं की। 
आईलीग क्लब के


एक शीर्ष अधिकारी ने कहा, ‘‘यह आश्चर्यजनक है कि एआईएफएफ ने इस तरह का बयान जारी किया। इसमें कोवरमैन्स का कथन होना चाहिए था जिसका खंडन किया गया या फिर एआईएफएफ अधिकारी को उनकी तरफ से बयान देना चाहिए था। ’’
उन्होंने कहा, ‘‘खंडन निजी स्तर पर होना चाहिए। महासंघ केवल इतना कैसे कह सकता है कि उन्होंने ऐसा नहीं कहा। क्या महासंघ यह भी कह सकता है कि कोच ने कुछ कहा था। ’’
एआईएफएफ सूत्रों ने कहा कि आईएमजी रिलायंस प्रस्तावित टूर्नामेंट का विस्तृत खाका कल की बैठक में रखेगा और बाकी जुलाई के आखिर या अगस्त के पहले सप्ताह में होने वाली कार्यकारी समिति की बैठक पर छोड़ देगा।
उन्होंने कहा, ‘‘उन्होंने : आईएमजी रिलायंस : हो सकता है कि आखिरी प्रस्ताव पेश नहीं करें लेकिन वे इस महीने के आखिर या अगले महीने के शुरू में कार्यकारी समिति की बैठक में ऐसा करेंगे। ’’
असमंजस की स्थिति होने के कारण कुछ खिलाड़ी आगामी आईलीग सत्र के लिये क्लबों से करार करने के लिये भी समय ले रहे हैं। उन्हें उम्मीद है कि यह मसला स्थानान्तरण की आखिरी समयसीमा 31 जुलाई तक सुलझा लिया जाएगा।
भारतीय गोलकीपर सुब्रत पाल ने कहा, ‘‘मैं कुछ दिन इंतजार करूंगा और देखता हूं कि क्या होता है। आईएमजी रिलायंस से पेशकश मिली है लेकिन मैंने अभी इस पर हस्ताक्षर करने या नहीं करने का फैसला नहीं किया है। मैं कुछ दिनों में फैसला कंरूगा। यदि मुझे किसी आईलीग क्लब से जुड़ना है तो 31 जुलाई तक ऐसा करना होगा। ’’
रिपोर्टों के अनुसार पूर्व भारतीय कप्तान बाईचुंग भूटिया, पूर्व अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी रेनेडी सिंह और सुरकुमार सिंह, वर्तमान खिलाड़ी गौरमांगी सिंह, सैयद रहीम नबी और निर्मल छेत्री उन खिलाड़ियों में शामिल हैं जिन्होंने टूर्नामेंट के लिये करार किया है।
भाषा

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?