मुखपृष्ठ अर्काइव
Bookmark and Share
‘बुर्का’ जैसे शब्द वोट नहीं बटोर सकते: नीतीश PDF Print E-mail
User Rating: / 1
PoorBest 
Tuesday, 16 July 2013 09:13

पटना। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम लिए बिना सोमवार को कहा कि ‘पपी’ और ‘बुर्का’ जैसे शब्द वोट नहीं बटोर सकते, बल्कि इनसे निश्चित रूप से देश में माहौल बिगाडेगा।
पटना के एक, अणे मार्ग स्थित मुख्यमंत्री आवास पर जनता दरबार के बाद पत्रकारों से बात करते हुए नीतीश ने  कहा कि ‘पपी’ और ‘बुर्का’ जैसे शब्द वोट नहीं बटोर सकते। इस तरह की जहरीली भाषा पर दूसरी तरफ से इसी प्रकार की प्रतिक्रिया होगी, जो देश में शांति और सौहार्द का माहौल बिगाडेÞगा।
कांग्रेस के साथ गठबंधन से जुडेÞ एक सवाल पर नीतीश ने कहा कि ऐसी कोई बात नहीं हो रही है और इसको लेकर कयास लगाने की जरूरत नहीं है। जद (एकी) ने अपनी बुनियाद को मजबूत करने और अकेले चलने का फैसला किया है।
भाजपा के साथ जद (एकी) के 17 साल पुराने गठबंधन की ओर इशारा करते हुए नीतीश ने कहा कि हमारा गठबंधन कुछ बुनियादी बातों पर हुआ था। गठबंधन का जो सबसे बड़ा दल (भाजपा) था, उसके उठाए कदम हमें मंजूर नहीं थे। इसलिए हमने गठबंधन को तोड़ने का कदम उठाया।
भाजपा द्वारा मोदी को चुनाव अभियान समिति प्रमुख बनाए जाने पर उससे जद (एकी) के नाता तोड़ने के कदम को सही बताते हुए नीतीश ने नरेंद्र मोदी की टिप्पणियों की  ओर इशारा करते हुए कहा कि पिछले तीन चार दिनों में जो बातें कही जा रही हैं वह हमारे लिए नए रुख को और मजबूत करती है।
नीतीश कुमार ने कहा कि जिस तरह की भाषा का प्रयोग हो रहा है और डंके की चोट पर जो घोषणाएं हो रही हैं, उसके पीछे जो अवधारणा है, उससे हम सहमत नहीं है। इन्हीं बिंदुओं पर हम अलग हुए। जो निर्णय लिया, वह सही है। यही सब तो हमारे एतराज का बिंदु है। उन्होंने कहा कि हम अपने सिद्धांत और उसूल पर अडिग हैं। अपने लोगों और अपने


सिद्धांत पर विश्वास है। चाहे नतीजा जो हो, उसे स्वीकार करेंगे।
नीतीश ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि वह यूपीए के खिलाफ महंगाई और भ्रष्टाचार जैसे मुद्दे को उठाने के बजाय भाजपा अपनी इच्छा (नरेंद्र मोदी) को अपने गठबंधन साथियों पर थोपने में लगी है, जो हमें किसी कीमत पर मंजूर नहीं है।
‘बुर्का’ पर टिप्पणी के बारे में नीतीश ने कहा कि इसका इस्तेमाल एक समुदाय की महिलाएं रिवाज और परंपरागत तौर पर उसी प्रकार से करती हैं, जिस प्रकार देश के कुछ भागों में हिंदू समुदाय की महिलाएं अपने सिर को ढकने के लिए साड़ी का इस्तेमाल करती हैं। उन्होंने कहा कि अपने रिवाज और परंपरा के पालन करने में बुराई क्या है और उस पर कटाक्ष क्यों।
अधिवक्ता राम जेठमलानी के उस कथन पर कि वे राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद और नरेंद्र मोदी को एक मंच लाने के लिए काम करेंगे, के बारे में पूछे जाने पर नीतीश कुमार ने कहा- जेठमलानी जी ने दावा किया है कि वे लालू जी का समर्थन दिला सकते हैं। बात गंभीर है। उन्होंने कहा कि राजद और भाजपा के बीच भीतर-भीतर खेल चल रहा है। बाहर-बाहर खूब बयानबाजी हो रही है। जब वकील ही कह रहे हैं, तो यह मिलने का साफ संकेत देता है। नीतीश ने कहा कि हाल में राघोपुर में लालू जब एक सड़क दुर्घटना में घायल हुए थे, तो मोदी ने उन्हें टेलीफोन भी किया था।
लालू और मोदी में एक और समानता बताते हुए उन्होंने कहा कि ये दोनों उनके खिलाफ अपशब्दों का प्रयोग करते हैं और उनका ऐसा किया जाना उन्हें हानि के बजाय लाभ पहुंचा रहा है।

 

 

जनसत्ता के फेसबुक पेज पर जाने के लिए क्लिक करें- https://www.facebook.com/Jansatta

जनसत्ता के ट्विटर पेज पर जाने के लिए क्लिक करें- https://twitter.com/Jansatta

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?