मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
चंद्रशेखर कभी अपने दोस्तों को नहीं भूले: मुलायम PDF Print E-mail
User Rating: / 2
PoorBest 
Tuesday, 09 July 2013 11:33

जनसत्ता ब्यूरो, लखनऊ। समाजवादी पार्टी की ओर से सोमवार को राज्य भर में प्रखर समाजवादी नेता और पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर की छठी पुण्यतिथि पर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि दी गई। वक्ताओं ने उनके राजनीतिक जीवन पर रोशनी डाली और उनके बताए रास्ते पर चलने का संकल्प दिलाया। उन्होंने यह भी कहा कि चंद्रशेखर को सच्ची श्रद्धांजलि मुलायम सिंह यादव को प्रधानमंत्री पद पर प्रतिष्ठित करने पर होगी।
समाजवादी पार्टी के प्रदेश मुख्यालय, लखनऊ में चंद्रशेखर के चित्र पर माल्यार्पण के बाद श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने कहा कि चंद्रशेखर निर्भीक और बेबाक तरीके से अपनी बात रखते थे। बलिया के एक सुदूर गांव इब्राहिमपट्टी से चल कर देश के सर्वोच्च पद प्रधानमंत्री की कुर्सी तक पहुंच कर भी उन्होंने कभी मित्रों को नहीं भुलाया। वे अकेले रहे कोई बड़ी पार्टी उनके पास नहीं रही, तो भी संसद में उनकी बात गंभीरता और शांति से सुनी जाती थी। उनमें


मानवीय मूल्यों के प्रति गहरी संवेदना थी।
उन्होंने कहा कि राजनीति में पद से चिपकने वाला और धारा के अनुकूल बहने वाला कभी नहीं जीतता है। इच्छाशक्ति, साहस और संकल्प से लक्ष्य हासिल होता है। उन्होंने कहा कि विचारधारा अमर रहती है। हम सबको आज यह संकल्प लेकर जाना है कि समाजवादी विचारधारा को मजबूती देनी है।
मुलायम सिंह ने चंद्रशेखर के साथ अपने संबंधों का जिक्र करते हुए संस्मरण भी सुनाए। कई महत्त्वपूर्ण राजनीतिक घटनाचक्र में अपनी और उनकी भूमिकाओं पर उन्होंने प्रकाश डाला। चंद्रशेखर के राजनीतिक जीवन के विविध पहलुओं पर अहमद हसन, भगवती सिंह, डा मधु गुप्ता, डा अशोक बाजपेयी, धर्मानंद तिवारी, जरीना उस्मानी, श्रीपति सिंह, शारदा प्रताप शुक्ल, विजय यादव, निर्मल सिंह, राजेश दीक्षित, इंद्रधर द्विवेदी, बुक्कल नवाब, डा आलम सरहदी, डा आशालता सिंह और मकतूल अख्तर ने प्रकाश डाला।

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?