मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
पंचायत चुनाव की तारीख पर आयोग व सरकार में मतभेद PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Friday, 17 May 2013 11:50

कोलकाता। (जनसत्ता)। पंचायत चुनाव की तारीखों को लेकर राज्य सरकार और राज्य चुनाव आयोग में मतभेद उभर कर सामने आए हैं। गुरुवार को तीन चरणों में चुनाव करवाने के लिए आयोग और सरकार के बीच बैठक हुई थी। कलकत्ता हाई कोर्ट ने निर्देश दिया था कि दोनों पक्ष मिल कर चुनाव की तारीखें तय करें, इसके बाद ही दोनों पक्ष के बीच बैठक हुई। इसके साथ ही आयोग ने शुक्रवार को सर्वदलीय बैठक बुलाई है, जिसमें मतदान को लेकर चर्चा की जाएगी।
राज्य चुनाव आयोग की आयुक्त मीरा पांडे ने बैठक के बाद पत्रकारों को बताया कि हम लोगों ने कुछ तारीखें सुझाई थीं और उन्होंने (राज्य सरकार)  भी हाईकोर्ट के आदेश पर तीन चरणों में करवाए जाने वाले मतदान के लिए तारीखों का सुझाव दिया। आखिर पंचायत चुनाव की तारीखों के बारे में राज्य सरकार सूचित करेगी।
कलकत्ता हाईकोर्ट ने 14 मई को राज्य सरकार से कहा था कि चुनाव आयोग के साथ सलाह कर पंचायत चुनाव की तारीखों का एलान करे। पांडे ने कहा कि प्राथमिक तौर पर मतदान के दौरान सुरक्षा बलों की नियुक्ति को लेकर बातचीत हुई है। इस बारे में बाद में चर्चा होगी।
एक सवाल पर उन्होंने कहा कि मतदान के लिए सर्वदलीय बैठक में चर्चा किए जाने पर भी एक सुझाव दिया गया है। यह बैठक शुक्रवार को होगी। जबकि आयोग के सचिव ने पत्रकारों को बताया कि बैठक सफल नहीं रही। हालांकि राज्य सरकार की ओर से बैठक के बारे में कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है। पहली बार चुनाव आयोग के कार्यालय में


अदालत के निर्देश में बैठक की गई। इसमें आयोग की ओर से पांडे और आयोग के सचिव तापस राय, राज्य सरकार की ओर से मुख्य सचिव संजय मित्र, गृह सचिव बासुदेव बनर्जी उपस्थित थे। 
सूत्रों के मुताबिक राज्य सरकार की ओर से पंचायत चुनाव के लिए तारीखें तय की गई है। इस बारे में राइटर्स बिल्डिंग में प्रशासनिक बैठक में फैसला किया गया। इसके तहत 24 जून, 28 जून और दो जुलाई को मतदान करवाने और चार जुलाई को मतगणना करने की सलाह दी गई है। जबकि दूसरे प्रस्ताव में 26 जून, 30 जून और तीन जुलाई को मतदान और वोटों की गिनती छह जुलाई को करवाने के लिए कहा गया है। राज्य सरकार का मानना है कि पांच जुलाई तक मतदान की प्रक्रिया समाप्त हो जाए जबकि आयोग नौ जुलाई के पहले मतदान और वोटों की गिनती का काम पूरा करना चाहता है। बाद में दो, छह और दस जुलाई को मतदान करने की संभावना जताई गई। 
इस बीच राज्य चुनाव आयोग ने मतदान को लेकर शुक्रवार को सर्वदलीय बैठक बुलाई है। इसके बाद 18 और 19 मई को जिलाधीश और पुलिस अधिकारियों से बैठक की जाएगी। इसके तहत 19 मई को आठ जिलों के जिलाधीश और पुलिस अधीक्षकों के साथ बैठक पर सुरक्षा व्यवस्था को लेकर चर्चा होगी। पंचायत चुनाव के दौरान सुरक्षा व्यवस्था को लेकर राज्य चुनाव आयोग और राज्य सरकार में मुख्य मतभेद हैं।

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?