मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
फेसबुक पोस्ट पर धमकी मिलने पर तृणमूल छात्र नेता ने पार्टी से दिया इस्तीफा PDF Print E-mail
User Rating: / 1
PoorBest 
Sunday, 07 April 2013 17:06

कोलकाता। तृणमूल कांग्रेस छात्र नेता ने फेसबुक पर अपने उस पोस्ट पर तृणमूल नेताओं से धमकी भरे फोन मिलने पर पार्टी से इस्तीफा दे दिया जिसमें उसने संदिग्ध परिस्थितियों में एक एसएफआई नेता की मौत के समय आईपीएल समारोह में पश्चिम बंगाल मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की शिरकत पर सवाल खड़ा किया था।
पश्चिम मिदनापुर तृणमूल कांग्रेस छात्र शाखा के जिला सचिव सुवजित दास ने चार अप्रैल को इस्तीफा दे दिया। इससे एक दिन पहले तीन अप्रैल को उसने अपने फेसबुक एकाउंट पर एक कार्टून डाला था जिसमें आईपीएल उद्घाटन समारोह में ममता की भागीदारी का मजाक उड़ाया गया था।
फेसबुक पोस्ट पर सुर्खी लगाई गई थी ‘‘यह सियासत बंद की जानी चाहिए।’’
पीटीआई ने जब फोन पर दास से आज संपर्क किया तो उसने कहा, ‘‘ममतादी या पार्टी की बेइज्जती करने की मेरी कोई मंशा नहीं थी। मैं बस यही कहना चाहता था कि इस तरह की राजनीति बंद की जानी चाहिए। लेकिन पोस्ट के बाद मुझे मेरे पार्टी नेताओं से धमकी भरे फोन काल आने लगे जिसमें मुझसे पोस्ट हटाने को कहा जाता था


जो मैं नहीं करना चाहता था। सो, मैंने इस्तीफा दे दिया।’’
ममता को मृत एसएफआई नेता के परिवार से मिलने के बजाए आईपीएल जश्न में शामिल होने पर अनेक हलकों से आलोचनाओं का सामना करना पड़ा है।
दास ने कहा, ‘‘यह पहला मौका नहीं है जब मैंने पार्टी के खिलाफ लिखा। कुछ एक दिन पहले प्राथमिक स्कूल शिक्षकों की परीक्षा में जब कुप्रबंधन हुआ तो मैंने अपने विचार पोस्ट किए। मैं एक व्यक्ति हूं और पार्टी जो महसूस करती है उससे अलग मेरे निजी विचार हैं।’’
तृणमूल नेता एवं सांसद सुलतान अहमद ने कहा कि उन्हें इस मामले की जानकारी नहीं है।
इस प्रकरण पर टिप्पणी के लिए तृणमूल छात्र शाखा नेता शंकुदेब पांडा से संपर्क नहीं किया जा सका।
पिछले साल, जादवपुर विश्वविद्यालय के प्रोफेसर अंबिकेश महापात्र को अप्रैल में ममता बनर्जी का माखौल उड़ाने वाले एक कार्टून पोस्ट करने पर गिरफ्तार किया गया था।

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?