मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
विजेंदर के बाल और खून के नमूने के लिए अदालत जाएगी पुलिस PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Wednesday, 13 March 2013 09:13

चंडीगढ़ । हेरोइन की बरामदगी के मामले की जांच में विजेंदर का नाम आने के बाद पुलिस उसके खून और बाल का नमूने के लिए अदालत जा सकती है।

हेरोइन की बरामदगी के मामले की जांच में ओलंपिक पदक विजेता मुक्केबाज विजेंदर सिंह का नाम आने के बाद पंजाब पुलिस उसके खून और बाल का नमूना हासिल करने के लिए अदालत जा सकती है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि हरियाणा पुलिस में सहायक पुलिस अधीक्षक (डीएसपी) के पद पर कार्यरत विजेंदर से सोमवार शाम हरियाणा के पंचकुला में करीब चार घंटे पूछताछ की गई और इस दौरान उन्होंने दोनों नमूने देने से मना कर दिया।
सूत्रों ने कहा कि उनके खून और बाल का नमूना पाने के लिए हम कानूनी प्रक्रिया की मदद लेंगे।’ उन्होंने कहा कि इस बारे में अदालत जाने पर विचार हो रहा है।
बाल के नूमने की जांच से पता लगाया जा सकता है कि व्यक्ति ने 90 दिन के भीतर हेरोइन जैसे मादक पदार्थ का सेवन किया है या नहीं। जबकि खून के नमूने से यह पता चल सकता है कि व्यक्ति लगातार हेरोइन जैसे मादक पदार्थ का सेवन करता है या नहीं।
सूत्रों ने बताया कि विजेंदर को फिर से पूछताछ के लिए बुलाया जा सकता है।
पटियाला से आई खबरों के मुताबिक ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने वाले विजेंदर ने


पटियाला स्थित नेताजी सुभाष राष्ट्रीय खेल संस्थान में चल रहे राष्ट्रीय मुक्केबाजी शिविर से 14 मार्च तक की छुट्टी के लिए आवेदन किया है। सूत्रों ने कहा कि विजेंदर को रविवार को पटियाला पहुंचना था, लेकिन उनके नहीं पहुंचने पर संस्थान ने उन्हें मंगलवार तक का समय दिया। अभी यह साफ नहीं हो पाया है कि नेताजी सुभाष राष्ट्रीय खेल संस्थान ने विजेंदर के अवकाश का आवेदन स्वीकार कर लिया है या फिर उसे भारतीय खेल प्राधिकरण, दिल्ली को भेज दिया है।
नेताजी सुभाष राष्ट्रीय खेल संस्थान के प्रबंध निदेशक एलएस राणावत ने विजेंदर के शिविर में वापस आने के मुद्दे पर टिप्पणी करने से इनकार करते हुए कहा-‘मुझे माफ कर दीजिए, मुझे इस मुद्दे पर प्रेस से बात नहीं करने की सलाह दी गई है।’ भारत के मुक्केबाजी कोच जीएस संधू से संपर्क करने पर उन्होंने भी यही बात कही।
इस बीच नेताजी सुभाष राष्ट्रीय खेल संस्थान ने विजेंदर के साथी राम सिंह को सोमवार को निकाल दिया और आदेश जारी किए हैं कि वह संस्थान की किसी भी सुविधा का उपयोग करने के अधिकारी नहीं है। संस्थान ने इस आदेश की एक-एक प्रति भारतीय खेल प्राधिकरण, दिल्ली और भारतीय मुक्केबाजी संघ को भेज दिया है। (भाषा)

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?