मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
गोरखा प्रशासन करार एक ‘भूल’ थी: बुद्धदेव भट्टाचार्य PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Wednesday, 06 February 2013 10:08

कोलकाता (भाषा)। पश्चिम बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य ने आज दावा किया कि दार्जिलिंग में गोरखा क्षेत्रीय प्रशासन करार एक ‘भूल’ थी क्योंकि इससे गोरखालैंड मुद्दे पर समझौता किया गया।

उन्होंन बांग्ला भाषा के एक समाचार चैनल को दिये साक्षत्कार में कहा, ‘‘यह इतना आसान नहीं है कि मामले को एक दिन में सुलझा लिया जायेगा। जीटीए करार में गोरखालैंड की चर्चा ही अपने आप में एक भूल थी। यह समझौता सही नहीं था।’’
इसके अलावा उन्होंने यह दावा भी किया कि मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी:माकपा: पश्चिम बंगाल के पिछले विधानसभा चुनाव में खोये जनाधार को धीरे-धीरे वापस हासिल कर रही है और आगामी पंचायत


चुनाव इसका संकेत दे देंगे।
साथ ही साथ उन्होंने पश्चिम बंगाल के औद्योगिकरण की भी तरफदारी की और कहा कि मौजूदा तृणमूल कांग्रेस के पास उद्योग स्थापित करने की ‘‘दूरदर्शिता का अभाव’’ है।
उन्होंने कहा, ‘‘इस सरकार के पास दूरदर्शिता नहीं है। जमीन नीति क्या होगी? यह सही नहीं होगा कि सरकार सार्वजनिक कार्यों के लिये भी कभी जमीन का अधिग्रहण नहीं करेगी। मुझे इस बात की चिंता है कि पांच साल के बाद पश्चिम बंगाल का क्या होगा।’’

 

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?