मुखपृष्ठ
Bookmark and Share
सीमापार आतंकवाद रोकने वार्ता करेंगे भारत-पाक के सैन्य अधिकारी : विदेश मंत्री PDF Print E-mail
User Rating: / 0
PoorBest 
Monday, 07 October 2013 13:21

फर्रुखाबाद। केन्द्रीय विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद ने कहा है कि किसी भी समस्या का समाधान युद्ध से सम्भव नहीं है और पाकिस्तान से सीमापार भारत में आतंकवाद को रोकने के लिये दोनों देशों के सैन्य अधिकारी बातचीत करेंगे।


खुर्शीद ने संवाददाताओं से कहा कि पिछले दिनों अमेरिका में भारत तथा पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों की द्विपक्षीय वार्ता सकारात्मक रही थी। इस दौरान पड़ोसी मुल्क के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने प्रस्ताव रखा था कि दोनों देशों की नियंत्रण रेखा पर आतंकवादियों एवं घुसपैठियों की हरकतों पर रोक लगाने के लिये दोनों मुल्कों के विदेश मंत्रालयों की संयुक्त टीम का गठन किया जाए।
उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने अपने पाकिस्तानी समकक्ष शरीफ से बातचीत में साफ किया था कि दोनों देशों की फौजों के लोग ही वास्तविक स्थिति का आदान-प्रदान करने में सक्षम हो सकते हैं जिसे शरीफ से स्वीकार कर लिया।

विदेश मंत्री ने कहा कि पाकिस्तानी प्रधानमंत्री खुद आतंकवादी गतिविधियों से परेशान हैं। इसमें कोई दो राय नहीं है कि वह


भारत के साथ मधुर और सौहार्द्रपूर्ण सम्बन्ध बनाने के इच्छुक हैं लेकिन पाकिस्तान के कुछ तत्व इसमें बाधक बने हुए हैं। देश में मुसलमानों की स्थिति में सुधार के लिये गठित सच्चर समिति की सिफारिशों की अनदेखी करने के समाजवादी पार्टी (सपा) प्रमुख मुलायम सिंह यादव के आरोप पर खुर्शीद ने कहा कि यह इल्जाम बिल्कुल गलत है, क्योंकि केन्द्र सरकार ने इस समिति की 90 प्रतिशत सिफारिशें स्वीकार कर ली हैं।
उनसे पूछा गया कि इस साल के अंत में दिल्ली समेत पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव क्या अगले साल के शुरू में सम्भावित लोकसभा चुनाव के सेमीफाइनल के समान होंगे। इस पर उन्होंने इनकार कर दिया।
खुर्शीद ने कहा ‘‘सेमीफाइनल जैसी कोई बात नहीं है लेकिन इन चुनावों का कुछ ना कुछ और कहीं ना कहीं असर जरूर पड़ेगा।’’

(भाषा)

 

आपके विचार

 
 

आप की राय

सोनिया गांधी ने आरोप लगाया है कि 'भाजपा के झूठे सपने के जाल में आम जनता फंस गई है' क्या आप उनकी बातों से सहमत हैं?